अन्य खबर

भारत में अब तक कोरोना के नए वैरिएंट B.1.1.529 का कोई केस नहीं, ब्रिटेन समेत कई देशों के लिए खतरा

भारत में अब तक COVID19 वैरिएंट B.1.1.529 का कोई मामला सामने नहीं आया है. समाचार एजेंसी ANI के आधिकारिक सूत्र ने इसकी जानकारी दी है. हालांकि भारत ने  इसको लेकर अलर्ट जारी कर दिया है. भारत सरकार की ओर से सभी राज्यों को निर्देश जारी किए गए हैं कि दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना से आने वाले सभी यात्रियों की कड़ी जांच व परीक्षण किया जाए.इसको लेकर केंद्रीय राज्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेश के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा.

वहीं दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 का एक नया वैरिएंट B.1.1.529 सामने आया है. नया वैरिएंट सामने आने के बाद वैज्ञानिकों ने वैश्विक स्तर पर तेजी से कोविड संक्रमण बढ़ने की आशंका जताई है. वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि नए वैरिएंट पर कोविड वैक्सीन बेअसर हो सकती है, संक्रमण की दर बहुत तेज हो सकती है और मरीजों में गंभीर लक्षण विकसित हो सकते हैं.

डेल्टा के तुलना में ज्यादा म्यूटेशंस

डेल्टा वैरिएंट की तुलना में नए वैरिएंट के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन में भी 10 तरह के म्यूटेशंस पाए गए हैं, जबकि डेल्टा में सिर्फ दो तरह के म्यूटेशंस पाए गए थे. म्यूटेट होने का मतलब है वायरस के जेनेटिक मटेरियल में बदलाव होना है.डेल्टा प्लस वैरिएंट जो बाद के वैरिएंट से उत्परिवर्तित (Mutate) हुआ, उसकी स्पाइक प्रोटीन पर K417N उत्परिवर्तन की विशेषता रही थी. इस म्यूटेशन की वजह से रोग प्रतिरोधी क्षमता प्रभावित हुई थी. हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि B.1.1.1.529 में यह हो रहा है या नहीं.

कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के साथ ही अपना रूप बदलता रहता है और इसके नए स्वरूप सामने आते हैं, जिनमें से कुछ काफी घातक होते हैं लेकिन कई बार वे खुद ही खत्म भी हो जाते हैं. वैज्ञानिक उन संभावित स्वरूपों पर नजर रखते हैं, जो अधिक संक्रामक या घातक हो सकते हैं. वैज्ञानिक यह भी पता लगाने की कोशिश करते हैं कि क्या नया स्वरूप जन स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है या नहीं.

ब्रिटेन को रोकनी पड़ी छह देशों की यात्रा

कोरोना संक्रमण के काबू में होने के बाद धीरे-धीरे सभी देशों ने अपने-अपने दरवाजे अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए खोलने शुरू किए थे. इस बीच नए वैरिएंट ने एक बार फिर से दुनिया को डरा दिया है. दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना में सामने आए नए वैरिएंट के बाद ब्रिटेन ने छह दक्षिण एशियाई देशों की यात्रा को अस्थाई तौर पर निलंबित कर दिया है.ये संभावित रूप से जैविक रूप से महत्वपूर्ण म्यूटेशन हैं जो टीके, उपचार और ट्रांसमिशन के संबंध में वायरस के व्यवहार को बदल सकते हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button