अन्य खबर

कोरोना के नए वेरिएंट के खतरे को लेकर मोदी ने दिया निर्देश

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं में छूट देने की योजना की समीक्षा करने का निर्देश दिया है। शनिवार को कोविड-19 और टीकाकरण से संबंधित स्थिति की समीक्षा के लिए बुलाई गई एक व्यापक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए सतर्क और सक्रिय रहने की जरूरत पर जोर देते हुए इस नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अघिकारियों से अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढ़ील देने की योजना की समीक्षा करने को कहा।

कोविड-19 को लेकर शनिवार को बुलाई गई इस उच्च स्तरीय महत्वपूर्ण बैठक में प्रधानमंत्री ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर , विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर भी जानकारी ली। बैठक के दौरान पीएम मोदी ने लोगों को अधिक सतर्क रहने और मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी उचित सावधानी बरतने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि जिन इलाकों से कोरोना के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं , उन-उन इलाकों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोविड वैक्सीन की दूसरी खुराक का कवरेज बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

शनिवार को लगभग 2 घंटे तक चली इस उच्चस्तरीय बैठक में कोविड -19 के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों और टीकाकरण संबंधी स्थिति की समीक्षा की गई। प्रधानमंत्री को कोविड-19 संक्रमणों और आंकड़ो के मामलें में वैश्विक हालात की भी जानकारी दी गई। बैठक में प्रधानमंत्री ने टीकाकरण अभियान में प्रगति और ‘हर घर दस्तक’ अभियान के तहत किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी ली । इस दौरान उन्होने सभी राज्यों को दूसरी खुराक का दायरा बढ़ाने का निर्देश देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर, विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर जानकारी लेते हुए प्रधानमंत्री ने इस नए वेरिएंट के खतरे के मद्देनजर लोगों को अधिक सतर्क रहने और उचित सावधानी बरतने ( मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग ) की जरूरत पर भी बल दिया। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सभी अंतर्राष्ट्रीय आगमन की निगरानी की आवश्यकता पर जोर देते हुए जोखिम वाले देशों पर विशेष ध्यान देने का भी निर्देश दिया। उन्होने अधिकारियों को नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने की योजना की समीक्षा करने को भी कहा।

राज्य और जिला स्तर पर उचित जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को मिलकर काम करने का निर्देश देते हुए कहा कि ज्यादा कोरोना वाले मामलों की रिपोर्ट करने वाले क्षेत्रों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए और उन राज्यों को आवश्यक तकनीकी सहायता प्रदान की जानी चाहिए जहां इसके ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। पीएम ने वायरस के वेंटिलेशन और हवा से पैदा होने वाले व्यवहार के बारे में भी जागरूकता पैदा करने की जरूरत पर बल दिया।

पीएम ने अधिकारियों को विभिन्न दवाओं के पर्याप्त बफर स्टॉक सुनिश्चित करने के लिए राज्यों के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से बाल चिकित्सा सुविधाओं सहित चिकित्सा बुनियादी ढांचे के कामकाज की समीक्षा के लिए राज्यों के साथ काम करने को कहा। पीएम ने अधिकारियों से पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों और वेंटिलेटर के सही से काम करने को सुनिश्चित करने के लिए भी राज्यों के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया।

प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई इस उच्चस्तरीय बैठक में कैबिनेट सचिव राजीव गौबा , नीति आयोग के सदस्य ( स्वास्थ्य ) डॉ. वी.के.पॉल, गृह सचिव एके भल्ला, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव राजेश भूषण, शहरी विकास सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा,आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव और भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. के. विजय राघवन के अलावा कई अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button