अन्य खबर

हेलिकॉप्टर हादसे पर IAF ने कहा, मृतकों की गरिमा का सम्मान करें, कयास लगाने से बचें

तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर हादसे (Helicopter Crash) में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) और उनकी पत्नी मधुलिका समेत 13 लोगों की मौत के बाद देश में शोक की लहर है, लेकिन इस बीच दुर्घटना को लेकर कई तरह के कयास भी लगाए जा रहे हैं. कयासों के बीच भारतीय वायुसेना ने कहा कि हादसे के कारणों की जांच के लिए ट्राई सर्विस कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का गठन किया गया है और तेजी से जांच की जाएगी.

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने हादसे की जांच को लेकर आज शुक्रवार को ट्वीट करते हुए कहा कि भारतीय वायुसेना (IAF) ने 8 दिसंबर को हुई दुखद हेलिकॉप्टर दुर्घटना के कारणों की जांच के लिए एक ट्राई सर्विस कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का गठन किया है. जांच तेजी से पूरी की जाएगी और तथ्य सामने आएंगे. तब तक मृतकों की गरिमा का सम्मान करने के लिए बेबुनियाद अटकलों से बचा जा सकता है.

घटनास्थल पर पहुंचे IAF के अफसर

दूसरी ओर, तमिलनाडु में भारतीय वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी और स्थानीय पुलिस टीम कुन्नूर के पास हुई हेलिकॉप्टर दुर्घटना स्थल पर पहुंची और वहां का मुआयना किया. समाचार एजेंसी एएनआई ने तमिलनाडु के कुन्नूर के नानजप्पा चतरम गांव में हादसे के बाद दुर्घटनास्थल की जांच कर रहे भारतीय वायुसेना और स्थानीय पुलिस कर्मियों की टीमों की तस्वीरें साझा कीं है.

इस बीच भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत का आज शुक्रवार शाम को अंतिम संस्कार होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक दिन पहले ही पालम एयरबेस पहुंचकर सीडीएस रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 11 जवानों को श्रद्धांजलि दी थी. तमलिनाडु के नीलगिरी जिले के कुन्नूर में बुधवार को सेना के एक हेलिकॉप्टर के क्रैश होने से 13 लोगों का निधन हो गया था. इनमें सीडीएस के अलावा उनकी पत्नी और 11 रक्षाकर्मी भी शामिल थे. हादसे में अकेले जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का सेना के अस्पताल में इलाज चल रहा है.

बरार स्क्वायर में होगा अंतिम संस्कार

केंद्रीय मंत्रियों निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी, अर्जुन राम मेघवाल और पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव समेत कई नेताओं ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत को श्रद्धांजलि दी.

सीडीएस जनरल बिपिन रावत को निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार 17 तोपों की सलामी दी जाएगी और 800 जवान सलामी देंगे. सीडीएस रावत और उनकी पत्नी मधुलिका का अंतिम संस्कार आज शाम करीब 4 बजे बरार स्क्वायर में होना है. यहां तमाम वीआईपी सहित हजारों लोगों की मौजूदगी रहेगी.

माना जा रहा है कि बड़ी संख्या में लोग सीडीएस के अंतिम संस्कार में शामिल होने आएंगे और इसलिए बरार स्क्वायर के नजदीक रास्ते पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. पैरामिलिट्री फोर्सेस की कई कंपनी और आर्मी के जवानों की भी तैनाती की गई है. अंतिम संस्कार से पहले तीनों सेनाओं के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत के आवास पर गए.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button