अन्य खबर

सामाजिक विषमता देश की प्रगति में बाधक : श्याम प्रसाद

अयोध्या। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के वरिष्ठ प्रचारक व सामाजिक समरसता विभाग के अखिल भारतीय संयोजक श्याम प्रसाद ने कहा कि सामाजिक विषमता देश की प्रगति में बाधक है। इसलिए देश की तरक्की व विकास के लिए सामाजिक समरसता जरूरी है। वह इन दिनों उत्तर प्रदेश के प्रवास पर हैं। उन्होंने अयोध्या में पूर्वी उत्तर प्रदेश के चारों प्रान्तों के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि सामाजिक समरसता व्यवहार का विषय है। समरसता का निर्माण कार्यक्रम व सेमिनार करने से नहीं होगा। समरसता का कार्य घर से शुरू होता है। इसलिए घर में समरसता का व्यवहार होना चाहिए और घर पर आने वाले सभी व्यक्तियों के साथ समान व्यवहार होना चाहिए।

श्याम प्रसाद ने हिन्दुस्थान समाचार से कहा कि कुछ शक्तियां समाज में भ्रम व क्रोध निर्माण करने का प्रयास कर रही हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ स्थापनना काल से ही भेदमुक्त समाज निर्माण में लगा है। संघ की शाखा के कारण समाज में परिवर्तन भी देखने को मिला है। स्वयंसेवकों के साथ-साथ समाज के मन में समरसता का भाव पैदा करना हमारा दायित्व है। समरसता विभाग के अखिल भारतीय संयोजक ने कहा कि जल स्रोत,मंदिर और शमसान सार्वजनिक होने चाहिए। इसके लिए संघ प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि देश में अलग-अलग राज्यों में समरसता की दृष्टि से अलग-अलग चुनौतियां हैं।

उन्होंने बताया कि संघ की छह गतिविधियां संचालित हैं। इन छह गतिविधियों में से संघ तीन गतिविधियों जिसमें सामाजिक समरसता, परिवार प्रबोधन और पर्यावरण गतिविधि पर ज्यादा ध्यान देने के लिए कहा गया है। इस निमित्त पहली बार देश में सह सरकार्यवाह का प्रवास देशभर में हो रहा है। अभी अवध प्रान्त के प्रवास पर जल्द ही सह सरकार्यवाह वी.मुकुन्द का प्रवास संपन्न हुआ है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button